छात्रों के इंटर्नशिप में वसूली से लेकर निजी विद्यालयों के आवंटन तक में प्राचार्या की सरपरस्ती में भ्रष्टाचार व्याप्त

कानपुर ।अभी हाल ही में एक महिला आईपीएस अलंकृता सिंह ( 2008 बैच) को बिना अनुमति विदेश यात्रा करने पर अनुशासनहीनता मानते हुए योगी सरकार ने तत्काल प्रभाव से निलंबन कर दिया था । ऐसा ही एक मामला कानपुर नगर स्थित जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान नरवल तहसील डायट में प्राचार्या का आया है यहां मैडम एक दो बार नहीं बल्कि लगभग 4 विदेश यात्राएं शासन एवं विभाग की अनुमति के बिना कर चुकी हैं । जोकि अनुशासनहीनता की सभी सीमाओं को तोड़ता है। डायट नरवल तहसील की प्राचार्या ने 2019 से 2022 तक भारत के बाहर अन्य देशों में लगभग 3 वर्ष से अधिक विभिन्न दिवसों में कुल लगभग 4 यात्राएं की हैं ।जिसकी पुष्टि मैडम के पासपोर्ट की पूरी डिटेल निकालने पर होती है ।उत्तर प्रदेश सरकार की जीरो टोरिरेंस एवं भ्रष्टाचार निरोधक पॉलिसी को धता बताते हुए कानपुर नगर के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में प्राचार्या की सरपरस्ती में उनके पिठ्ठू बाबू की मिलीभगत से डीएलएड प्रशिक्षुओं को इंटर्नशिप बिना विभाग के निर्देश एवं शासनादेश के कराई जाती है ।विभागीय सूत्रों से विदित हुआ कि प्रतिवर्ष लगभग 4000 बच्चों को इंटर्नशिप के नाम पर प्रति छात्र 5000 रुपये तो प्रैक्टिकल फॉर्म भरवाई प्रति छात्र 2000 रुपये की मोटी रकम वसूली जाती है । करोड़ों की कमाई में प्राचार्या विदेश यात्राएं भी करती हैं ,और उनकी अनुपस्थिति में उनके तथाकथित पिठ्ठू बाबू सारा काम देखते हैं । फिर भी मैडम का हिस्सा चाहे वह देश में हो या विदेश में मैडम तक पहुंच ही जाता है। रेखा श्रीवास्तव का रसूख क्या होगा ? हालांकि मैडम का रसूख तो इतना है कि मैडम के सामने इनके अधीन कर्मचारी भी सहमे रहते हैं । धड़ल्ले से बिना अनुमति विदेश यात्राएं करने वाली मैडम की सरकार में बड़ी लम्बी पहुंच बताई जा रही है शायद यही कारण है कि उनपर कार्यवाही करने से इसी लिये जिम्मेदार भी बच रहे हैं।

No Slide Found In Slider.